kafila.online
विचार ही अब द्रोह !
(‘चार्वाक के वारिस : समाज, संस्कृति एवं सियासत पर प्रश्नवाचक ‘ की प्रस्तावना से) कार्ल मार्क्‍स की दूसरी जन्मशती दुनिया भर में मनायी जा रही है। दिलचस्प है कि विगत लगभग एक सौ पैंतीस सालो…