justiceforwomenindia.wordpress.com
मेरे कदम रुक जाते हैं …दहलीज़ पर …इसे
मेरे कदम रुक जाते हैं …दहलीज़ पर …इसे लांघ कर कोरा कागज़ है आगे …या कोरा दिखता है ? लिखा है सब …मेरी मुस्कुराहटें और आहें … मेरे आंसू और खुशियाँ …इन कोरे पन्नो …