jazbat.com
इश्क़ शायरी – तेरी बाहों में बस जाऊं, और मेरी मंजिल है क्या
दुनिया में इस जिंदगी का कोई भी ठिकाना नहीं तेरी बाहों में बस जाऊं, और मेरी मंजिल है क्या किन लफ्जों में तुमसे कह दूं अपनी ये ख्वाहिशें बिन कहे तुम समझ लो, हां मेरी मंजिल है क्या- शायरी इमेज…