jazbat.com
फोटो शायरी – मुझपे अपना जां निसार दिलबर चली गई
आस्मा के सारे तारे टूटकर गिरते रहे चांद जिनसे करके प्यार, बुझकर चली गई दिल में दो रूहों का दर्द लेकर जी रहा मुझपे अपना जां निसार दिलबर चली गई…