jazbat.com
शायरी ईमेज – दुनिया जिनको ठुकराती है पागल बरबाद समझके
साथ चला है एक साया संग मेरे एक दिशा में आठों पहर तन्हा भटकना दिलजलों का काम है दुनिया जिनको ठुकराती है पागल बर्बाद समझके उनसे ही दो बातें करना दिलजलों का काम है…