jazbat.com
फोटो शायरी – मैं क्या जानूंगी जब तू कहीं बोलता भी नहीं
तू बता दे मुझे सच क्या है और झूठ क्या मैं क्या जानूंगी जब तू कहीं बोलता भी नहीं मैं सोचूं भी तो तू मुझको कहां मिलता है मुझे खोने के खयाल से तू डरता भी नहीं…