jazbat.com
शायरी फोटो – बंद आंखों में रोते ही रहे शबनम कितने
खामोशी से बस देखता रहता हूं उसको वो समझ न सकी दर्द की ये जुबां अपनी बंद आंखों में रोते ही रहे शबनम कितने खुद से भी छुपाती है वो हर बयां अपनी…