jazbat.com
शायरी – दिल के घर में चुपके से वो
शायरी हमने ही तो आग लगाई बेशक उसने थी सुलगाई दिल के घर में चुपके से वो एक दीया थी लेकर आई…