jazbat.com
शेर ओ शायरी – कुछ अरमां आंसुओं में भीगे हैं
शेर ओ शायरी कुछ अरमां आंसुओं में भीगे हैं जाने कब किस घड़ी दहक जाए