jazbat.com
शायरी – अफसोस तो रहता है तुमको खो देने का
शायरी मगर अफसोस तो रहता है तुमको खो देने का वरना आशियाने के अंदर मयखाने नहीं बनते…