jazbat.com
शायरी – तेरी मोहब्बत के गम का असर न मिटे
शायरी तेरी मोहब्बत के गम का असर न मिटे अमृत न मिले सही, ये जहर न मिटे