jazbat.com
शायरी – कभी गली में वो दिखती नहीं
कभी गली में वो दिखती नहीं ये उम्मीद भी कितनी बंजर है