jazbat.com
शायरी – तेरा गम देख के रोता ये जमाना होगा
लव शायरी मेरे हंसने से तड़पता ये जमाना होगा तेरा गम देख के रोता ये जमाना होगा इस मुहब्बत में मंजिल जो पा न सके उनका दुनिया में फिर कैसे ठिकाना होगा…