jazbat.com
शायरी – इश्क में ये कैसी कशमकश है दिल में
तुम्हारे पास आने से मैं घबराता हूं तुमसे दूर जाने से मैं डर जाता हूं इश्क में ये कैसी कशमकश है दिल में कि जुबां से कहने से मैं शरमाता हूं…