jazbat.com
शायरी – तुम आए तो एक समंदर भी ठहरा
तुझे देखकर सारी थकान भूलते हैं मन के सभी परिंदे उड़ान भूलते हैं तुम आए तो एक समंदर भी ठहरा लहरों की जवानी तूफान भूलते हैं…