jazbat.com
शायरी – मुझमें आता है मेरा यार आंसू बनकर
शायरी मुझमें आता है मेरा यार आंसू बनकर फिर से वो बिछड़ता है आंसू बनकर उनकी यादों को भूल जाना मुमकिन नहीं मेरी हर कोशिश बहती है आंसू बनकर…