jazbat.com
शायरी – तेरा दिल मेरा आशना तो हो
शायरी राज ए उल्फत का तजरबा तो हो तेरा दिल मुझपे आशना तो हो चांद निकलेगा रोज मेरे घर में हुस्न जैसा कोई आईना तो हो…