jazbat.com
शायरी – शाम भी रूठी तेरे बिना, रात भी रोयी तेरे बिना
शाम भी रूठी तेरे बिना रात भी रोयी तेरे बिना दिल को बहुत समझाया समझा नहीं तेरे बिना…