jazbat.com
शायरी – मेरा इश्क भी तेरा हुस्न भी
शायरी जिस मोड़ पे तू मिल गई वहां एक नई राह खुल गई तू नए किरण की बहार है अब रात भी मेरी ढल गई…