jazbat.com
शायरी – बह गए आंसू कतरा-कतरा
शायरी खत का ये छोटा सा टुकड़ा लाया है महबूब का दुखड़ा सहमी-सहमी उंगलियों से बह गए आंसू कतरा-कतरा…