jazbat.com
शायरी – सावन आया हर रातों में
शायरी आग ये कितनी दूर जली है हमपे ये लौ बरस रही है दूर निगाहों से होकर भी वो आंसू मुझे परोस रही है…