jazbat.com
शायरी – इश्क का अच्छा इम्तहान रहा
शायरी रातभर रास्ता सुनसान रहा पर तेरे आने का इम्कान रहा कोरा कागज ही जमा कर आया इश्क का अच्छा इम्तहान रहा…