jazbat.com
शायरी – दर्द की बज रही है शहनाइयां
शायरी निगाहों की शाम आ ही गई जुदाई की रात आ ही गई दर्द की बज रही है शहनाइयां यादों की बारात आ ही गई…