jazbat.com
शायरी – जान में भी तू ही बसी है
शायरी खोने भर को जान बची है जान में भी तू ही बसी है एक कफन मुफलिस को दे दो तुमको आंचल की क्या कमी है…