jazbat.com
शायरी – किसके सहारे जीना है, तन्हाई ही तमन्ना है
शायरी किसके सहारे जीना है तन्हाई ही तमन्ना है हम इस पार, तुम उस पार बीच में नदी को बहना है…