jazbat.com
शायरी- जिनको तन्हाई का सहारा है
जिनको तन्हाई का सहारा है उनके सीने में दिल हमारा है चुन लिया हमने गम के कांटे मेरे आंगन का फूल तुम्हारा है मेरी आंखों में झांककर देखो यहां सागर का दो किनारा है ये हाथों की लकीरें नहीं हैं आंसुओं की…