jazbat.com
शायरी – आग लगी है रूह के धागे में
एक सिलसिला सा चल रहा है दिल आंसुओं में गल रहा है कभी झांककर देखा अपने अंदर हर तरफ वहां कुछ जल रहा है…