jazbat.com
शायरी – जो पल गुजारे हमने तेरी याद में
बेदर्द ये रातें और हिज्र के मौसम खुद पर खामोशी से मनाते हैं मातम दिल में उठा अभी आंसू के तूफां नजरों के रहगुजर में आया है सावन…