jazbat.com
रूहानी इश्क शायरी- आज फिर से दिल में तेरी खुशबू आई है
आज फिर से दिल में खुशबू आई है जाने कहां से आई तेरी परछाई है दिले नादां तेरी जुल्फों में उलझता है आज तुझमें खो जाने की रात आई है आओ छूके महसूस करूं खामोशी तेरी हाय तू इतना भी क्यूं शरमाई है जिस्म के…