jazbat.com
शायरी – तुझे याद कर मुस्कुराने लगे हैं
शायरी फिर से खयालात आने लगे हैं तुझे याद कर मुस्कुराने लगे हैं उड़-उड़ के गिरा दिल का परिंदा टूटे पंखों में जान आने लगे हैं…