jazbat.com
शायरी – अब गिन रहा हूं मैं दर्दे दिल लिए हुए
शायरी भूख से जिंदगी में जब बेहाल हो गए जेहन, जिगर, गजल भी फटेहाल हो गए मरघट में जब हमने एक घर तलाश लिया दुनिया की लाशों के लिए मिसाल हो गए…