jazbat.com
शायरी – है इश्क एक गुनाह तो ये गुनाह कर लिया
शायरी है इश्क एक गुनाह तो ये गुनाह कर लिया तेरे दर्द से इस दिल को तबाह कर लिया गम बहुत हैं जिंदगी में इसलिए जानेमन खामोशी से ही प्यार बेपनाह कर लिया…