jazbat.com
शायरी – मुहब्बत के समंदर में दिलदार बहुत हैं
शायरी मुहब्बत के समंदर में दिलदार बहुत हैं यहां कश्तियां हैं कम, पतवार बहुत हैं इस दुनिया में बेवफाओं का एक है उसूल वो अक्सर कहते हैं कि मेरे यार बहुत हैं…