jazbat.com
शायरी – समंदर तेरी सूरत महबूब से मिलती है
शायरी समंदर तेरी सूरत महबूब से मिलती है तेरी आंखें उस खूबसूरत सी लगती है तेरे दामन सा फैला है उसका आंचल उसकी जुल्फें तेरी लहरों सी लगती है…