jazbat.com
शायरी – जिन्हें देखिए वही बेवफा, अपने यहां देते हैं दगा
शायरी जिसे दर्द है, वहीं सोग है, जहां इश्क है, वहीं जोग है ये दुनियावाले क्या जानें, जो कहते हैं ये रोग है मैं टूटकर जुड़ा नहीं, ईमान से गिरा नहीं जहां आंसू देखा, रो पड़ा, मेरा दिल इतना कमजोर …