jazbat.com
शायरी – मेरे हमराह तेरी राह के हम मुसाफिर हैं
शायरी ऐ खंजर मेरे दिल को खून से तर कर दे ऐ पत्थर मेरी आंखों में तू पानी भर दे तू सूरज है, चंदा है, शम्मा भी है मेरे अंधियारे जीवन में रोशनी भर दे…