jazbat.com
शायरी – हमने तुमसे इश्क ये बेपनाह क्यूं किया
आंखे खुली हैं जबसे, हूं दर्द में ऐ महबूब मुझे नींद से जगाके तूने आगाह क्यूं किया…