jazbat.com
शायरी – मेरे पास है बचा क्या दिल के सिवा ऐ हमदम
शायरी आवारगी में अपना ठिकाना कहां से लाऊं तेरे संग रह सके वो तमन्ना कहां से लाऊं तुझे देखने की किस्मत मिल तो गई है लेकिन आंखों में जल सके वो शम्मा कहां से लाऊं…