jazbat.com
शायरी – अंधेरी रात में तुम कभी ठोकर न खाओ
शायरी सफर कट जाएंगे, बिछड़ के मर जाएंगे तेरे बारे में लेकिन गजल कह जाएंगे अंधेरी रात में तुम कभी ठोकर न खाओ जहां पे तुम रहोगे, वहीं जल जाएंगे…