jazbat.com
शायरी – फूल बन जाएंगी कलियां मेरे आंचल की
शायरी दूर बैठ रहोगे, पास न आओगे कभी ऐसे रूठोगे तो जान ले जाओगे कभी फूल बन जाएंगी कलियां मेरे आंचल की अपने दामन की खुशबू से जो सींचोगे कभी…