jazbat.com
शायरी – ये मेरा हुस्न निखर जाएगा आपको देखकर
आप जब तक रहेंगे दिल में सहारा बनकर रोज आएंगे इन निगाहों में उजाला बनकर मेरी तन्हाई अब तक मुझे जीने नहीं देती थी आप आए हैं मेरे जीने का सहारा बनकर…