jazbat.com
शायरी – रोया भी करेगा, आहें भी भरेगा
रोया भी करेगा, आहें भी भरेगा ये दिल मुझे रातभर कोसा भी करेगा वज़ूद में हैं टूटे शीशे की चिरागें ताउम्र मेरे खाक में शोला ही उड़ेगा…