jazbat.com
शायरी – यूं ही मरता है आशिक इस दुनिया में
दो कदम साथ चले तुम इस दुनिया में मुद्दतों दर्द सहे हम इस दुनिया में हमने आंचल जिसे समझा, कफन निकला कितने धोखे हैं या रब इस दुनिया में…