jazbat.com
शायरी – अभी महफूज हूँ डूबी हुई तेरी यादों में
शायरी अपनी दुनिया से न निकालो, मैं मर जाऊंगी तुम मुझे छोड़ न जाओ, मैं किधर जाऊंगी अभी महफूज हूं डूबी हुई तेरी यादों में यूं ही रहना मेरे साथ, मैं जिधर जाऊंगी…