jazbat.com
शायरी – सांसें हैं जब तक ये आस है बाकी
शायरी ये दौरे जवानी गुजर जाए शायद या दौरे जुदाई में मर जाएं शायद सांसें हैं जब तक ये आस है बाकी अमावस में चंदा निकल आए शायद…