jazbat.com
शायरी – तुम तो कहते हो मैं सब कुछ हूँ तेरे लिए
शायरी आईना और पत्थर के दरम्यां हूँ मैं दिले-नादां और जिंदगी के दरम्यां हूँ मैं आज हमने भी लगा ली है जां की कीमत अब हथेली पर रखा हुआ दीया हूँ मैं…