jazbat.com
शायरी – मैं जी रहा हूं तुमको देखकर ऐ चांद
शायरी आए हो तुम फलक पर, जलते हो रातभरजब सो रही है दुनिया, जगते हो रातभर उजली सी दास्तां को बिखरा दिया फिजा मेंतुम रोज ये कहानी, सुनाते हो रातभर…