jazbat.com
शायरी – फिर क्यूं शिकायत करें बेवफा से
शायरी दुख भी सहा था दिल की रजा से फिर क्यूं शिकायत करें बेवफा से करजदार हूं मैं दुनिया में सबका दगा भी मिले हैं सबकी दुआ से…