jazbat.com
शायरी – तुमसे रिश्ता है कैसा, आईना जानता है
शायरी दर्द ही एक मरहम है इस दिल के लिए और आंसू ही जीवन है इस दिल के लिए जिस मुसाफिर को तुम पागल समझ बैठे हो वो दीवाना बन गया है इस दिल के लिए…