jazbat.com
शायरी – तेरे पास आशिक के लिए कुछ नहीं बचता है
सारी दुनिया में मेरा नाम जो भी सुनता है पहले हंसता है फिर दीवाना मुझे कहता है तुमको फुरसत ना मिली कर्ज को चुकाने से तेरे पास आशिक के लिए कुछ नहीं बचता है…